aarthik asmanta ke khilaf ek aawaj

LOKTANTR

166 Posts

520 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8115 postid : 1179514

बी जे पी का सपना “कांग्रेस मुक्त भारत “

Posted On 20 May, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कल ५ राज्यों के चुनाव के परिणाम आये कांग्रेस पिछड़ी और बी जे पी आगे बढ़ी असम में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने जा रही है
बंगाल में ममता दीदी ने ने फिर से अपना परचम लहराया और पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की सरकार बनने जा रही है तमिलनाडु में जयललिता फिर से बहुमत प्राप्त करके सरकार बनाने वाली हैं केरल जहाँ कांग्रेस के ओमान चंडी सरकार में थे वे हार गए और वहां बाम दल सरकार बनाने जा रही है एक पुडुचेरी एक छोटा राज्य है जहाँ कांग्रेस जिन्दा है कुल मिला के कांग्रेस का जनाधार दिनों दिन घटता जा रहा है और क्षेत्रीय पार्टियां अपने अपने राज्यों में लोकप्रिय होती जा रहीं हैं तभी क्षेत्रीय पार्टियों(जदयू ) के मुखिया अब प्रधानमंत्री बनने का ख्वाब देख रहें हैं जैसे के बिहार के सी एम श्री नितीश कुमार अपना शराब बंदी अभियान लेकर अपने को राष्ट्रिय नेता के रूप में स्थापित करने की जुगत में लगे हुए हैं किसी पार्टी या नेता को यह फ़िक्र नहीं की सरकारों के बनने से आम आदमी की जिंदगी में कोई सुधार हुवा .बेरोजगारों को काम मिला ,किसानों की हालत सुधरी , देश में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार हुवा. इन बुनियादी सवालों पर किसी नेता या किसी पार्टी का ध्यान नहीं जा रहा है जिससे जनता का सीधा सरोकार है अतः देखने को यही मिलता है की जनता ने अपना कीमती मत देकर जिनको जिताया वे
सरकार में काबिज होते हीं जनता से कोई सरोकार है यह तक भूल जाते हैं यानि सरकार को जनता से कोई सरोकार रह ही नहीं जाता ये नेता
ये पार्टियां जनता को राष्ट्रवाद ,ासहिस्नुता , दलित पर अत्याचार , जी डी पी इंफ्लेसन जैसी बातों में उलझा कर जनता को समझाते रहते हैं जनता को कहते रहते हैं देश में आर्थिक सुधार हो रहा है लेकिन मैं कहता हूँ नेताओं का आर्थिक सुधार हो रहा है जनता तो जैसे पहले परेशानियां झेल रही थी आज भी वैसे ही झेल रही है अपराध बढ़ते जा रहें हैं बिहार में सुशासन बाबू जब कोई हत्या होती है तो अन्य राज्यों के
आंकड़े लेकर बैठ जाते हैं और पीड़ित को कहते हैं बिहार में अपराध आज भी और जगहों की अपेक्षा कम है जिसका लड़का मारा गया क्या
उसके पिता को यह सुनकर तसल्ली हो जाएगी की बिहार में अभी भी अपराध कम है हत्यारे पकडे नहीं जाते दलितों का वोट पाकर ये नेता
चुनाव जीत रहे हैं और दलितों पर दिनों दिन अपराध तक़रीबन सभी राज्यों में बढ़ते जा रहे हैं मालूम नहीं इस देश के दलित ऐसे नेताओं को
वोट क्यों देते हैं अगड़ा पिछड़ा कहकर समाज के लोगों में आपसी सौहार्द को ख़राब करने का काम ये नेता ही करते हैं इस देश में हिन्दू
,मुस्लमान ,सिख ईसाई सभी आपस में प्रेम से रहते हैं और प्रेम से रहना चाहते हैं पर नेता हीं इनको आपस में लड़ाने
का काम करते हैं और ऐसा साबित करना चाहते हैं के वे मुसलमानों के हितों की बात ये करते हैं ये सेकुलर हैं ये अल्पसंख्यक के हिमायती हैं क्या इस देश का मुसलमान ऐसा महसूस करता है ? नहीं, क्यूंकि इस देश का मुसलमान तो केवल वोट के लिए याद किया जाता है और जो थोड़े बहुत मुस्लिम नेता हैं भी वे मुसलमानों को जाहिल बनाए रखना चाहते हैं अगर शिक्षा का स्तर मुसलमानों में भी सुधरता तो जितने हुनरमंद मुसलमान होते हैं उतने और कोई नहीं ऐसा कम से कम मैं तो अपने बचपन से देखता आया हूँ और इस देश का सामाजिक सौहार्द भी पहले इतना नहीं बिगड़ा था जितना पिछले ४० सालों में बिगड़ा है तो कुल मिलाकर देश के नेता जनता कोल केवल
ठगने ,का काम ही कर रहे हैं. २०१४ के लोकसभा चुनाव में वर्तमान पी एम मोदी जी देश की जनता को सुनहरे सपने दिखाए और जनता को लगा की मोदी के रूप में भगवान बनकर कोई आया है जो देश के हरेक गरीब के बैंक खाते में १५ लाख रुपया जमा करवा देगा और इस देश में कोई गरीब रह ही नहीं जायेगा चुकी जनता कांग्रेस के भ्र्ष्टाचार और घोटाले से परेशां थी a जनता विकल्प चाहती थी अतः मोदी जी को पूर्ण बहुमत देकर चुनाव में जीत दिला दी बाद में जब अब देश में राज करते हुए मोदी जी को २ साल पूरे होने को जा रहे हैं अब जनता से कह रहे हैं १५ लाख देना तो चुनावी जुमला था .मोदी जी १५ लाख न सही १५ हजार तो गरीबों के खाते में दे दो देश में १५ करोड़ खाते खोले गए
कम से कम उनके खाते में तो रूपये जमा करवा दो २६ मई के पहले क्या देश को यही नारा देते रहोगे कांग्रेस मुक्त भारत और जब ऐसा है तो जनता को यह भी बताओ की कांग्रेस मुक्त भारत अगर बन भी जायेगा तो किसानों का मजदूरों का विद्यार्थियों का बेरोजगार युवकों का किसका भला आप करने जा रहे हो” कांग्रेस मुक्त भारत बनाकर” मैं कहूंगा की इस बार २२ मई को “मन की बात में यही जनता को बताओ की कांग्रेस मुक्त भारत अगर बन गया तो देश की जनता का क्या लाभ होगा ” अतः मेरे प्रधानमंत्री श्री मोदी जी देश की जनता से कहो अपराध मुक्त भारत ,अन्याय मुक्त भारत ,न्याय युक्त भारत ,गरीबी मुक्त भारत ,और सादगी युक्त भारत ,बेरोजगार मुक्त भारत ऐसा भारत बनाने का प्रयास करो मोदी जी और देश की बाकि पार्टियां अपने अपने राज्यों में ऐसा नारा दें जनता को झूठे सपने दिखाकर जनता को मुर्ख न बनायें जनता को किये गए वायदे पूरे करें तब जाकर नेताओं का सपना सही मायनों में सपना कहलायेगा मैं ऐसी उम्मीद करता
हूँ की पी एम मोदी जी ने सुझाव मांगे थे जनता से २२/५/१६ के कार्यकर्म “मन की बात ” प्रोग्राम पर मैं यही सुझाव देता हूँ जय हिन्द !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

7 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

OM DIKSHIT के द्वारा
May 21, 2016

आदरणीय दूबे जी, नमस्कार. बधाई.आप ने सशक्त लेख लिखा है.केवल कांग्रेस -मुक्त भारत के नारे से तो यही लगता है कि मोदी जी ने अन्य प्रांतीय शासक-दलों को क्लीन-चिट दे दिया है या यूँ कहें कि उनके भ्रष्टाचार से …..सहमत हैं.

    ashokkumardubey के द्वारा
    May 23, 2016

    देश का कोई भी नेता या कोई भी पार्टी क्लीन चिट देने लायक नहीं

Dr S Shankar Singh के द्वारा
May 21, 2016

priy shri dube ji, saadar namaskaar. aaj savere savere aapka telephone milane par bahut khushi hui. isi samay dainik jagran men main aapka chhapa hua blag padh raha tha. aapne bahut achcha likha hai. agar modi ji nen yah kaha hai ki harek vyakti ke account men we 15 lakh daaal denge to yah galat hai. dhan to kamaana padata hai. koi kisi ko muft men nahin deta hai. modi ji ko ek suawsar mila hai. isaka upyog unhen gareebi, bhukhmari, bimari gair barabari hatane ke liye karana chahiye. yahi hamari prathmiktaayen honi chahiye. kisi karanvash aaj mere google men transliteration ki suvidha kaam nahin kar rahi hai. is kaaaran devnagri men likh nahin pa raha hoon. sesh milane par. saabhaar

jlsingh के द्वारा
May 20, 2016

आदरणीय दुबे जी, सादर अभिवादन! बहुत ही सशक्त आलेख मुझे लगा . असम की जनता परिवर्त्तन चाहती थी.तृणमूल की दीदी गांवों में अपनी पैठ बन चुकी हैं, ऐसा कुछ पत्रकारों का कहना है. और अम्मा तो अपना हर ब्रांड चलकर जनता को मोह चुकी है इसलिए ये दोनों दुबारा सत्ता में आयी हैं. केरल में भी परिवर्तन ही हुआ है बाकी तो शोभा जी से सहमत हूँ. अपना काम स्वयं ईमानदारी से करना होगा सरकारें योजनाएं बनती हैं, धरातल पर कितना काम होता है यह हम अाप सभी देख चुके हैं. अभी पांच साल पूरा होने दीजिये जब तक दूसरा कोई सपनों का सौदागर नहीं आ जाता है तब तक इन्हे ही झेलना होगा. सादर!

Shobha के द्वारा
May 20, 2016

श्री दूबे जी एक बात मेरी समझ में आई है चुनावी प्रक्रिया में हिस्सा लेना हमारा कर्तव्य है बाकि कोई किसी को कुछ नहीं देता अपनी मेहनत से ही अपना भला क्र सकते हैं |

rameshagarwal के द्वारा
May 20, 2016

जय श्री राम अशोक जी आपके बहुतसे विचारो से सहमत हूँ लेकिन मोदीजी ने कभी नहीं कहा की हर एक को १५ लाख मिलेगे उन्होंने कहता की इतना कला धन है की यदि हर एक को बांटा जाए तो हर एक के खाते में १५ लाख आयेंगे कही देश का धन ऐसे बात जाता उसे विकास में लगाया जाता  आपने मोदीजी के अच्छे कार्यो पर नहीं लिखा कांग्रेस के ६० साल की गन्दगी को दूर करने में समय लगेगा.देश में मुफ्त की चीजे नहीं लोगो को खरीदने की ताकत देने का प्रयत्न हो रहा.वैसे लोग तो भगवानजी को भी नहीं छोड़ते सुन्दर केख के किये साधुवाद

    ashokkumardubey के द्वारा
    May 23, 2016

    मैं मोदी विरोधी नहीं हु मैंने तो मोदी जी को इतना याद दिलाने की कोशिश की थी की झूठे वायदे देश की नासमझ जनता से नहीं करने चाहिए आप ही बताएं उन्होंने कौन सा अच्छा काम किया हाँ भ्र्स्टाचार जरूर काम हवा है पर आम आदमी के लिए भ्र्ष्टाचार अभी भी है हाँ बड़े बड़े उद्योगपतियों से सांठ गाँठ करके घोटाले का काम इस सरकार ने जरूर नहीं किया बाकि सबकी अपनी स्वत्नत्र राय है मैंने यही बताना चाहा है की कांग्रेस मुक्त भारत हो जाने से आम जनता का कोई लाभ नहीं आज अपने देश में ५ साल का अग्रीमेंट चल रहा है और वही हो भी रहा है, हाँ मोदी जी येन केन प्रकारेण पूरे देश में भाजपा की सरकार बन जाये इसके लिए ज्यादा काम करते दिखाई जरूर दे रहें हैं लेकिन नतीजा तो आप भी देख रहें हैं फिर भी विचार रखने के लिए धन्यवाद


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran